Saturday, July 13, 2024
Uncategorized

यूपीए और एनडीए सरकार का स्कोर कार्ड !

राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण: यूपीए 2011-2014 के दौरान ,कुल 15005 किमी सड़क बनाई गई है। एनडीए 2014-2017 18432 किलोमीटर बनाई है।

विजेता एनडीए

ग्रामीण भारत सड़क निर्माण: यूपीए 2011-14 की अवधि के दौरान, सड़कों के निर्माण की औसत दर 73 किमी प्रति दिन थी, जो 2014-15 और 2015-16 के दौरान प्रति दिन 100 किमी तक बढ़ गई। 2016-17 के लिए, 130 किलोमीटर प्रतिदिन का रिकॉर्ड हासिल किया गया है, जो कि पिछले 7 वर्षों में सबसे ज्यादा औसत वार्षिक निर्माण दर है।

विजेता: एनडीए

ग्राम पंचायत को इंटरनेट कनेक्टिविटी: 2014 तक केवल 5 9 ग्राम पंचायतों को इंटरनेट कनेक्शन मिला लेकिन मोदी के कार्यकाल के दौरान दिए गए कनेक्शन के आंकड़े सही नहीं हैं। तीन वर्षों में मोदी सत्ता में हैं और 78,220 ग्राम पंचायतों को इंटरनेट कनेक्शन मिला।

विजेता: एनडीए

एलपीजी कनेक्शन: डॉ। मनमोहन सिंह ने 9 अक्टूबर 2012 को ‘अंतरराष्ट्रीय एनर्जी एक्सेस’ में दावा किया था कि “लगभग 12 प्रतिशत लगभग 1 9 0 मिलियन ग्रामीण परिवार अपनी खाना पकाने की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एलपीजी का उपयोग करते हैं। देश में सभी 240 मिलियन परिवारों को प्रति वर्ष छह एलपीजी सिलेंडरों के हकदार होने के लिए केवल 25 मिलियन टन एलपीजी की आवश्यकता होगी। यह हमारे देश के लिए प्रबंधनीय होना चाहिए। लेकिन, सभी गांवों में वितरण नेटवर्क का विस्तार करने में समय लग सकता है। “लेकिन इसे रोकने के लिए कोई बड़ा कदम नहीं उठाया गया। जबकि मोदी सरकार ने इस योजना के तहत प्रधान मंत्री उज्ज्वल योजना लाभ लॉन्च किया है, बीपीएल परिवारों को पांच करोड़ एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराए जाएंगे। यह योजना बीपीएल परिवारों को प्रत्येक एलपीजी कनेक्शन के लिए 1600 रुपये का वित्तीय सहायता प्रदान करती है। जिसकी प्रशासनिक लागत 1600 प्रति कनेक्शन, जिसमें सिलेंडर, दबाव नियामक, पुस्तिका, सुरक्षा नली इत्यादि शामिल हैं, सरकार द्वारा पैदा की जाएगी। अब तक 3,38,23,979 बीपीएल एलपीजी कनेक्शन जारी किया गया है।

विजेता: एनडीए

रेल ट्रैक : यूपीए ने 2009-2014 से 10245 किमी रेलवे लाइन बिछाई, सालाना 2049 किमी औसत के साथ। जबकि नरेंद्र मोदी सरकार ने 17 अगस्त, 2017 तक 8382.75 किमी बिछाई, यानी सालाना 2395.071 किलोमीटर औसत।

विजेता: एनडीए

रेलवे में दुर्घटना:
जैसा कि आप देख सकते हैं 2003-2016 से रेलवे दुर्घटना में लगातार गिरावट आई है।

मुझे विश्वास है कि हमने रेलवे दुर्घटना की प्रवृत्ति को कम करने में साल भर काम करने के लिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को श्रेय दिया है।

विजेता: यूपीए

बैंक खाते : एनडीए सरकार के तहत 31.07 करोड़ लाभार्थियों ने अब तक बैंकिंग खातों में 74,534.7 9 करोड़ बैलेंस और उप-सेवा क्षेत्रों में शाखा के बिना बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने वाले 1.26 लाख बैंक मित्रास को शुरू किया है। लेकिन मोदीजी के कंधे में पूरा क्रेडिट नहीं है, यूपीए सरकार ने भी इसका हिस्सा लिया है। 31 मार्च, 2012 तक इस 3.16 करोड़ खातों के तहत इस योजना को पहले मूल बचत बैंक जमा खाता (बीएसबीडीए) के रूप में जाना जाता है।

विजेता: एनडीए.

मिट्टी स्वास्थ्य कार्ड: यूपीए के तहत एक वर्ष में 48 करोड़ मिट्टी स्वास्थ्य कार्ड अर्थात 9.60 करोड़ रुपये दिए गए हैं। जबकि मोदी सरकार 12 करोड़ मिट्टी स्वास्थ्य कार्ड एक वर्ष में 4 करोड़ रूपये दिया जाता है।

विजेता: यूपीए

आवासीय योजना शहरी / ग्रामीण:- यूपीए सरकार के तहत 1049325 घर 2009 से 2014 तक सभी केंद्रीय योजनाओं के तहत 209865 घर एक वर्ष के दौरान पूरे हुए, जबकि एनडीए सरकार 2210234 घर 2014-2017 से पूरे हुए, यानि 552558.5 घर सालाना एक वर्ष में पूरे हुए।

विजेता: एनडीए

स्वच्छ भारत: यूपीए के तहत 27879238 शौचालय 2010-2014 में (30 नवंबर 2013 यानी 6195386.22 शौचालय सालाना औसत) बने थे। जबकि एनडीए सरकार के तहत 66455739 शौचालयों को सालाना औसत 1898735 से बनाया गया था।

विजेता: एनडीए

कम लागत वाली मेडिकल स्टोर: यूपीए, नवंबर, 2008 के तहत, 31 अक्टूबर 2014 तक देश के विभिन्न हिस्सों में 199 स्टोर खोले गए हैं, जिनमें से 99 कार्यात्मक हैं। जबकि मोदी सरकार के तहत कुल 3150 कार्यात्मक दुकान चल रही है।

विजेता: एनडीए

रोजगार: वित्तीय वर्ष 2015-16 में, देश में लगभग 1.35 लाख नौकरियां पैदा हुईं, जबकि यूपीए सरकार के दौरान यह 4.20 लाख थी। हालांकि, 2016-17 में, भारत में 2.13 लाख नई नौकरियां पैदा की गई हैं, जिनमें प्रमुख योगदान क्षेत्र सर्विस, मैनुफैक्चरिंग और व्यापार थे। वर्तमान में, देश में 15 से 30 वर्ष के आयु वर्ग के 30% से अधिक युवा या तो बेरोजगार हैं या प्रशिक्षण नहीं ले रहे हैं। तो यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि रोजगार उत्पादन के मामले में मोदी सरकार का समग्र प्रदर्शन अंक तक नहीं है।

विजेता: यूपीए

पेट्रोल: पेट्रोल का एक लीटर अब करीब 80₹ है जबकी तेल लगभग 45 डॉलर प्रति बैरल हो रहा है। लेकिन यूपीए -2 और मई 2013 के दिनों में, जब तेल की एक बैरल 110 डॉलर और 120 डॉलर के बीच थी, और रुपया 55 डॉलर था, 64 नहीं, पेट्रोल की कीमत लगभग 64₹ लीटर

विजेता: यूपीए

भ्रष्टाचार : यूपीए के टाइम पर जिस CVC रिपोर्ट का बखान कर के NDA ने सत्ता हासिल करी उस पर आज NDA चुप है । CVC की रिपोर्ट के अनुसार भ्रष्टाचार 67% बड़ा है ।

विजेता : यूपीए

हमने उन बिंदुओं की तुलना करने की कोशिश की जो आम भारतीयों के जीवन को सीधे प्रभावित करते हैं।
इसके लिए उत्तर लिखने का हमारा मुख्य उद्देश्य, लोगों को नेता या पार्टी के बारे में सत्य तथ्य दिखाना है। यदि आप मोदी का समर्थन करते हैं, तो मेरा सवाल यह है कि “आप ऐसा क्यों कर रहे हैं?” यदि आप मोदी के खिलाफ हैं, तो मेरा सवाल होगा “आप ऐसा क्यों कर रहे हैं?” एक शिक्षित भारतीय के रूप में मेरा मानना है कि हमें पता होना चाहिए कि हम क्यों समर्थन कर रहे हैं या इसके खिलाफ क्यो है।

समझदार बनिए ,तथ्यों के आधार पर पक्ष विपक्ष को आकियें ।
खुद सुने खुद देखे और अपना मत रखे। और ऐसे रोचक लेखों के लिए Inquilab Times से जुड़े रहिये ।

Leave a Reply